चिकनपॉक्स से 18 वर्षीय युवती की मौत, दहशत में ग्रामीण

चिकनपॉक्स से 18 वर्षीय युवती की मौत, दहशत में ग्रामीण

रायगढ़ : जिला मुख्यालय से 20 किमी दूर चक्रधरनगर थाना क्षेत्र के ग्राम सपनई में विगत 15 दिनों से चिकनपॉक्स की बीमारी  ने दस्तक दिया है। जिसकी चपेट में आने से एक युवती की मौत हो गई। घटना की सूचना मिलते ही स्वास्थ्य विभाग द्वारा गांव में सर्वे कराते हुए दवाई वितरण का किया जा रहा है।

जानकारी अनुसार, जिला मुख्यालय से करीब 20 किलोमीटर दूर लोईंग के ग्राम सपनई में विगत 15 दिनों से चिकनपॉक्स की बीमारी फैली हुई है। जिससे हर घर में एक-दो लोग इसके चपेट में आ रहे हैं, हालांकि गांव के लोग माता समझकर बैगा से पूजा-पाठ कराते हुए स्वस्थ हो रहे रहे हैं।

इस बीच सपनई निवासी पुरुषोत्तम राठिया को भी 10 दिन पहले चिकनपॉक्स हुआ था। जिससे झाड़ फूंक के बाद वह स्वस्थ हो गया। उसके बाद उसके बेटे को हो गया था, लेकिन वह भी जब ठीक हो गया तो चार दिन पहले पुरुषोत्तम की 18 वर्षीय बेटी चंद्रकला को हो गया। वहीं चंद्रकला राठिया को चिकनपॉक्स पूरे शरीर में होने के कारण उसे तेज बुखार व शरीर में असहनीय दर्द हो रहा था। जिससे परिवार के लोग लगातार उसकी झाड़-फुक करा रहे थे।.

इस दौरान बुधवार शाम को उसकी तबीयत ज्यादा बिगड़ने लगी, जिससे बैगा द्वारा फिर से झाड फूंक किया गया, लेकिन उसकी तबीयत में सुधार नहीं हुआ और रात में वह बेहोश होने लगी थी। जिससे परिजनों ने रात करीब दो बजे उसे मेडिकल कालेज अस्पताल लेकर गए। जहां इलाज के दौरान गुरुवार को करीब चार बजे उसकी मौत हो गई।

चक्रधरनगर पुलिस ने मर्ग कायम कर पीएम उपरांत शव परिजनों को सौंप दिया है। ऐसे में अब पुलिस का कहना है कि पीएम रिपोर्ट आने के बाद ही पुष्टि हो सकेगा कि युवती की मौत चिकनपॉक्स से हुआ है या कोई और कारण है।

चिकनपॉक्स के लक्षण 

चिकनपॉक्स एक बीमारी है जो वैरिसेला-ज़ोस्टर वायरस के कारण होती है। यह छोटे, तरल पदार्थ से भरे छालों के साथ खुजली वाले दाने लाता है। चिकनपॉक्स उन लोगों में बहुत आसानी से फैलता है जिन्हें यह बीमारी नहीं हुई है या जिन्होंने चिकनपॉक्स का टीका नहीं लगवाया है। चिकनपॉक्स एक व्यापक समस्या हुआ करती थी, लेकिन आज टीका बच्चों को इससे बचाता है।

चिकनपॉक्स का टीका इस बीमारी और इसके दौरान होने वाली अन्य स्वास्थ्य समस्याओं को रोकने का एक सुरक्षित तरीका है।

लक्षण

चिकनपॉक्स के कारण होने वाले दाने वैरिसेला-ज़ोस्टर वायरस के संपर्क में आने के 10 से 21 दिन बाद दिखाई देते हैं। दाने अक्सर 5 से 10 दिनों तक रहते हैं। दाने से 1 से 2 दिन पहले दिखाई देने वाले अन्य लक्षणों में शामिल हैं:

  • बुखार।
  • भूख में कमी।
  • सिरदर्द।
  • थकान और अस्वस्थता की सामान्य भावना।

एक बार जब चिकनपॉक्स के दाने दिखाई देते हैं, तो यह तीन चरणों से गुजरता है:

  • उभरे हुए दाने जिन्हें पपल्स कहा जाता है, कुछ दिनों में फूट जाते हैं।
  • छोटे तरल पदार्थ से भरे छाले जिन्हें वेसिकल्स कहा जाता है, लगभग एक दिन में बनते हैं और फिर फट जाते हैं तथा रिसाव होने लगता है।
  • टूटे हुए छालों को ढकने वाली पपड़ी और पपड़ी को ठीक होने में कुछ दिन लगते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *