लोकसभा अध्यक्ष के लिए पुरंदेश्वरी के नाम की चर्चा, आंध्र प्रदेश भाजपा अध्यक्ष और चंद्रबाबू की साली हैं

लोकसभा अध्यक्ष के लिए पुरंदेश्वरी के नाम की चर्चा, आंध्र प्रदेश भाजपा अध्यक्ष और चंद्रबाबू की साली हैं

नई दिल्ली :  लोकसभा के अंक गणित और सत्ता-विपक्ष के बीच जारी खींचतान को देखते हुए स्पीकर का पद इस बार अहम हो गया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगुआई वाली NDA सरकार दो बड़े घटक दल TDP और जदयू भी इस होड़ में शामिल दिख रहे हैं।

TDP नेता एन चंद्रबाबू नायडू और जदयू नेता नीतीश कुमार को लगता है कि अगर उनकी पार्टी में तोड़फोड़ की कोशिश होगी तो स्पीकर पद उस समय जीवन बीमा होगा। I.N.D.I.A ब्लॉक ने भी कहा है कि स्पीकर पद TDP के पास जाता है, तो वे समर्थन देने तैयार है।

हालांकि, मोदी के दूसरे कार्यकाल में स्पीकर रहे कोटा सांसद ओम बिड़ला फिर दावेदारी में आगे हैं। उनके कैबिनेट मंत्री न बनने से अटकलें और जोर पकड़ चुकी हैं। इसी बीच भाजपा की आंध्र प्रदेश अध्यक्ष डी. पुरंदेश्वरी का नाम भी उछला है।

पुरंदेश्वरी चंद्रबाबू नायडू की साली हैं। उन्होंने नायडू का उस वक्त समर्थन किया था, जब उनकी अपने ससुर एनटी रामाराव का तख्ता पलट करने पर आलोचना हो रही थी। ऐसे में उन्हें स्पीकर बनाया जाता है, तो नायडू पर सॉफ्ट प्रेशर रहेगा। उनकी पार्टी पुरंदेश्वरी का विरोध नहीं कर पाएंगी।

पुरंदेश्वरी कम्मा समुदाय से हैं। चंद्रबाबू नायडू भी इसी समुदाय के हैं। आंध्र प्रदेश की राजनीति में यह प्रभावशाली समुदाय है। कम्मा समुदाय को TDP का ट्रेडिशनल वोटर माना जाता है। साफ है कि डी पुरंदेश्वरी के बहाने भाजपा नायडू की पार्टी के परंपरागत वोट बैंक में सेंध लगाना चाहती है।

बिड़ला स्पीकर बने तो रिकॉर्ड की बराबरी करेंगे, राष्ट्रीय अध्यक्ष की दौड़ में भी शामिल

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मंत्रिमंडल में पिछले कार्यकाल में लोकसभा अध्यक्ष रहे ओम बिरला को जगह नहीं दी गई है। माना जा रहा था कि स्पीकर का कार्यकाल पूरा करने के बाद बिरला को कैबिनेट में जगह मिलेगी, लेकिन ऐसा नहीं होने से अब उनके भविष्य को लेकर कई तरह के कयास लगाए जाने लगे हैं। सूत्रों के मुताबिक बिरला के लिए बड़ी भूमिका वाले रास्ते अभी भी खुले हुए हैं।

कांग्रेस के कोडिकुन्निल सुरेश बन सकते हैं प्रोटेम स्पीकर

नई सरकार बनने पर सबसे पहले सदन के सबसे वरिष्ठ सदस्य को लोकसभा का प्रोटेम स्पीकर बनाया जाता है। इस बार भाजपा के वीरेंद्र कुमार और कांग्रेस के कोडिकुन्निल सुरेश ऐसे दो सदस्य हैं, जो सबसे ज्यादा सातवीं बार चुने गए हैं। वीरेंद्र कुमार कैबिनेट में शामिल हैं। लिहाजा कांग्रेस के सुरेश प्रोटेम स्पीकर हो सकते हैं।

प्रोटेम स्पीकर सांसदों की शपथ करवाने के साथ ही स्पीकर का चुनाव करवाते हैं। स्पीकर का चुनाव साधारण बहुमत से होता है। पिछली लोकसभा में लोकसभा उपाध्यक्ष का पद खाली ही रहा था। इस बार यह पद भी NDA के किसी घटक दल को दिया जा सकता है।

अटल सरकार में TDP के पास था स्पीकर पद

NDA की अटल बिहारी वाजपेयी सरकार में स्पीकर पद TDP के पास था। तब जीएमसी बालयोगी स्पीकर बने थे। उनके बेटे जीएम हरीश मधुर TDP से चुनाव जीते हैं। TDP उन्हें लोकसभा अध्यक्ष बनाकर दलित नेता को बड़े संवैधानिक पद पर ले जाने का श्रेय ले सकती है।


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *