शासन को करोड़ो का चूना लगा चुके भ्रष्ट प्रबंधक पर विभाग के अधिकारी हुए मेहरबान

शासन को करोड़ो का चूना लगा चुके भ्रष्ट प्रबंधक पर विभाग के अधिकारी हुए मेहरबान

 

करोड़ो का फर्जीवाड़ा करने वाले पूर्व प्रबंधक खगेश जांगडे को पुनः गाताडीह का प्रभार

सारंगढ़ : अभिवाजित रायगढ़ जिले व सारंगढ़-बिलाईगढ़ जिला का सेवा सहकारी समिति केंद्र गाताडीह किसी न किसी मामले को लेकर सुर्खियों में हमेशा रहा है और इस सेवा सहकारी समिति में पदस्थ रहे अधिकारी कर्मचारी के साथ-साथ समिति ऊपर भी गंभीर आरोप लगते रहे हैं और आरोपियों को जेल को हवा भी खानी पड़ी है उसके बावजुद भी यहाँ आये दिन कुछ ना कुछ गड़बड़ झाला होता ही रहता है ,उल्लेखनीय हो कि पूर्व में खगेश जांगडे जो कि गाताडीह में समिति प्रबंधक के पद पर कार्यरत थे जिनके द्वारा करोड़ो की फर्जीवाड़ा करने के आरोप में अधिकारियों के द्वारा FIR दर्ज करवाया था जिसमे FIR दर्ज के बाद खगेश जांगडे 10 साल से फरारी काट रहे थे ऐसे करोड़ो रु.फर्जीवाड़ा करने वाले को फिर से उसी गाताडीह के समिति प्रबंधक के रूप में कार्यभार सोपा गया है साथ ही वित्तीय प्रभार दिए जाने की भी तैयारी अधिकारियों के के द्वारा की जा रही है जिसके आवाज में अधिकारी मलाई खा रहे है पूरा मामला लेनदेन का प्रतीत हो रहा है जिसमें क्षेत्र के एक भाजपा नेता का बड़ा हाथ है अभी वर्तमान में खगेश जांगडे को पुनः समिति में कार्य करने हेतु रखा गया है चुकी खरीफ़ सीजन वर्ष चल रहा है किसानों के खेती किसानी का दिन आ गया है और खाद बीज वितरण का कार्य चल रहा है ऐसे में किसानों ने नाम ना छापने के शर्त पर बतलाया है कि सदस्यता शुल्क के नाम से प्रति किसानों से हजारो रु.वसूल किया जा रहा है और अपना जेब भर रहा है वही धान बीज जिसकी प्रति बोरी 1020 रु है जिसको वर्तमान में गाताडीह के सहायक समिति प्रबंधक जो खुद को समिति प्रबंधक बता रहा है जिसको अभी पूर्ण रूप से प्रभार नही मिला है के द्वारा 1050 -1100 रु में नगद बिक्री किया जा रहा है और नगद बिक्री के पैसे को बैंक में जमा भी नही कर रहा है ऐसे में किसानों से प्रति बोरी 30-80 रु किसानों से लूट कर अपना जेब भर रहा है और करोड़ो रूपये के फर्जीवाड़ा कर शासन को करोड़ों रुपए का चूना लगाने अभी से तैयारी में लग गया है।अब देखना यह है कि गाताडीह के पूर्व समिति प्रबंधक खगेश जांगडे जो IPC 420 की धारा में करोड़ो के फर्जीवाड़े कर 10 साल से फरार आरोपी को पुनः गाताडीह का वितीय प्रभार सौंप कर अभय दान दिया जाता है या फिर शासन को करोड़ों रुपए के फर्जीवाड़ा से बचाने उनको हटाया जाता है।

क्या कहते हैं सहायक आयुक्त व्यास नारायण साहू-
इस संदर्भ में सहायक आयुक्त व्यास नारायण साहू से मोबाइल फोन पर चर्चा की गई तो उन्होंने बताया कि खगेश जांगड़े समिति के सदस्य के रूप में कार्य कर रहा है जो की वह न्यायालय से दोष मुक्त हो चुका है विभागीय जांच लंबित है और अभी वर्तमान में वित्तीय प्रभार उनके पास नहीं है अगर किसानों के द्वारा अवैध वसूली या अधिक राशि में खाद्य,बीज बेचने की शिकायत मिलेगी तो कार्यवाही की जाएगी।


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *